Saturday, November 9, 2013

"रात के जलते अंधेरों  ने अक्सर...
सुबहों को सवरते  देखा है ...
और जागती आँखों ने ही..
बदली दिनों की रूप रेखा है ..."

No comments:

Post a Comment