Saturday, November 9, 2013

"उजाले बिजलियों की इतनी रही ...
दिया अपनी परछाई देखता रह गया....
अंधेरों को जब हटा के देखा ..
तो खुद की .. फकत तन्हाइई देखता रह गया..."

No comments:

Post a Comment